Dear MySarkariResult Users Always Type ".in" after MySarkariResult : - "MySarkariResult.in"

कम्प्यूटर में ‘ओ’ लेवल कोर्स कर बना सकते हैं कॅरियर

यह आईटी में आई क्रांति का ही कमाल है कि आज कंप्यूटर का क्षेत्र 10वीं-12वीं पास के लिए भी कमाई के अवसरों से लदा है। हार्डवेयर मैन्यूफैक्चरिंग, रिपेयरिंग व सिस्टम डिजाइन, सॉफ्टवेयर निर्माण, कॉल सेंटर, टेलीकॉम सेक्टर, बीपीओ आदि विभिन्न क्षेत्रों में कंप्यूटर प्रोफेशनल्स के लिए काम ही काम हैं।

कम्प्यूटर में ‘ओ’ लेवल कोर्स कर बना सकते हैं कॅरियर
कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए बीटेक/बीई कंप्यूटर साइंस आदि कोर्स करने की आवश्यकता होती है। लेकिन कई अन्य तरीकों से भी कंप्यूटर या आईटी क्षेत्र में जाया जा सकता है। यदि आपको कंप्यूटर के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है तो आप कंप्यूटर बेसिक लेवल कोर्स शुरू कर सकते हैं या फिर डोएक इंस्टीटय़ूट में ओ लेवल कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। बेसिक कोर्स करने के बाद आप कंप्यूटर प्रोग्राम में डाटा एंट्री करने में सक्षम हो जाएंगे। कई संस्थानों की अधिकतर नौकरियों में कंप्यूटर डाटा एंट्री करने वालों की मांग बनी रहती है।
आगे ट्रेनिंग लेकर आप कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में भी जॉब हासिल कर सकते हैं। प्रोग्रामिंग जॉब में आप प्रोग्राम को लिखने और टैस्टिंग का काम करेंगे तथा इंप्लिमेंटिग फेज़ में आप यूज़र की सहायता करेंगे। यदि आप कुछ कंप्यूटर भाषाओं और टेक्नोलॉजी जैसे सी, सी प्लस प्लस, जावा कोबोल, यूनिक्स आदि में दक्ष हो जाते हैं तो आप कंप्यूटर टेक्नोलॉजी में सुनहरा भविष्य बना सकते हैं। डोएक के ए लेवल तथा बी लेवल कोर्स स्नातक के समकक्ष हैं। इन कोर्सो में आपको कई ऑपरेटिंग सिस्टम्स जैसे माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस, इंटरनेट एक्सप्लोरर, फोटोशॉप आदि एप्लीलिकेशन्स के डेवलपमेंट के लिए तैयार करते हैं। प्रत्येक लेवल में दक्ष होने के बाद आप नई तथा परिष्कृत टेक्नोलॉजी में काम कर सकते हैं। इस क्षेत्र में करियर संभावनाओं के लिए आप अपनी रुचि तथा योग्यता के अनुसार कई अन्य प्रोग्राम्स, लैंग्वेजिज तथा टेक्नोलॉजी सीख सकते हैं। अपनी दक्षताओं के कारण ही आप सिस्टम एनालिस्ट, सिस्टम प्रोग्रामर, एनालिस्ट प्रोग्रामर, डाटाबेस मैनेजमेंट, नेटवर्किंग, कोडर आदि पोस्ट में जॉब कर सकते हैं। लॉजिकल दिमाग तथा एकाग्रता के साथ सीखने की चाहत इस क्षेत्र में प्रवेश करने की न्यूतम ज़रूरत है। आप एनआईआईटी, जीएनआईआईटी, एपीटीईसीएच, डीओईएसीसी आदि संस्थानों से डिप्लोमा तथा सार्टिफिकेट कोर्स कर सकते हैं।

ओ लेवल कंप्यूटर कोर्स में साल में दो बार एडमिशन लिया जाता है, जिसका आयोजन जुलाई तथा जनवरी में किया जाता है। छात्र इंटरमीडिएट या आईटीआई का कोर्स करने के बाद इस कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं। ये कोर्स कंप्यूटर अनुप्रयोगों में एडवांस डिप्लोमा के बराबर समझा जाता है।

ओ लेवल कोर्स का सिलेबस -O level course syllabus

यदि आप ओ लेवल कंप्यूटर कोर्स करना चाहते हैं तो इसके अंदर आपको 4 विषय मिलते हैं और चारों में से गाय के एग्जाम होता है और चारों विषयों का एक-एक एग्जाम होता है इन चारों पेपरों के साथ सब्जेक्ट का प्रैक्टिकल और प्रोजेक्ट भी होता है -
यह तीन पेपर कंम्पसरी होते हैं -
1. M1 R4 (It tools and business system)
2. M2 R4 (internet technology and web design)
3. M3 R4 (C programming)
इसमें तीनों में से आपको कोई एक चुनना होता है
1. M4 1-R4 (.Net programming)
2. M4 2-R4 (introduction to multimedia)
3. M4 3-R4 (ICT Re)
इस प्रकार कुल चार पेपर देने हैं

प्रवेश प्रक्रिया

इसके लिए आपको nielit की वेबसाइट student.nielit.gov.in पर जाना होगा और O level Computer Course के एग्जाम के लिए O level Online Registration कराना होगा

कोर्स में आवेदन करने के लिए दो प्रक्रियाएं हैं। आप या तो किसी संस्थान जो राष्टï्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान के अंतर्गत रजिस्टर्ड हों तो उसमें जाकर एडमिशन ले सकते हैं या फिर नीलिट की वेबसाइट पर जाकर सीधे आवेदन कर सकते हैं। ओ लेवल कोर्स करने के लिए अगर आप किसी इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेते हैं तो रजिस्ट्रेशन, फीस पेमेंट आदि कार्य संस्थान करवाता है, जिसके लिए वो शुल्क भी लेते हैं। संस्थान से ओ लेवल कोर्स करने पर आपको क्लासेज एवं पाठ्यक्रम के सभी पहलुओं का ध्यान इंस्टीट्यूट ही रखता है।

कोर्स फीस

अगर आप ओ लेवल कोर्स में डायरेक्ट अप्लाई करने जा रहें हैं तो अपने आप से पहले सवाल कर लें कि क्या आप ओ लेवल के पाठ्यक्रम को बिना किसी अध्यापक के मदद के समझ लेंगे। अगर आप ऐसा करने में सक्षम हैं तो आप ओ लेवल कंप्यूटर कोर्स घर बैठकर बहुत कम फीस में कर सकते हैं। दोनों सेमेस्टरों को मिलाकर लगभग 3 से 4 हजार रुपये फीस पड़ेगी। यदि आप किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से इस कोर्स को करने जा रहे हैं तो इसकी फीस में कुछ बढ़ोतरी हो सकती है।

परीक्षा प्रणाली

कोर्स की परीक्षा का आयोजन वर्ष में दो बार कराया जाता है। आप जिस भी परीक्षा सत्र के लिए आवेदन करते हैं उस सत्र के जनवरी या फिर जुलाई के महीने में द्वितीय शनिवार से परीक्षा शुरू हो जाती है। पहले पेपर के बाद आपके बचे हुए तीनो पेपर लगातार अगले दिनों में हो जाएंगे। आप एक दिन में दो पेपर देने के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। आपको पेपर देने के लिए अप्लाई करते समय प्रत्येक पेपर के लिए परीक्षा फीस भी देनी होती है जिसे आप नीलिट की वेबसाइट में देख सकते हैं। परीक्षा पास करने के बाद ही आप प्रैक्टिकल परीक्षा तथा साक्षात्कार के लिए आवेदन कर सकते हैं। परीक्षार्थी परीक्षा में वैकल्पिक प्रश्नों का उत्तर देता है। प्रश्नपत्र दो भागों में विभाजित होता है। प्रथम भाग में 40 तथा द्वितीय भाग में 60 प्रश्न पूछे जाते हैं।

प्रवेश पत्र

परीक्षा शुल्क जमा करने के कुछ ही समय बाद नीलिट की आधिकारिक वेबसाइट पर प्रवेश पत्र उपलब्ध हो जाते हैं। परीक्षा में शामिल होने के लिए परीक्षार्थी को प्रवेश पत्र एवं फोटोयुक्त पहचान पत्र ले जाना अनिवार्य होता है।

O Level Course Project Kaise Hota Hai?

O level course project बनाने के लिए सबसे पहले आपको अपने लिए एक ऐसे guide (person) की जरूरत पड़ती है जिसके पास MCA या CS field में कोई बड़ी degree हो और उस person को आपके project proforma पर अपने sign करने होंगे और अपनी marksheet और resume की photocopy भी आपके project के साथ attach करनी होगी.

O level project में आपको M3-R4 (C Programming) के कोई भी 15 से 20 programs बनाकर NIELIT के head office post करने होंगे और project accept होने जाने के बाद ही आपकी O level course की marksheet आ जाती है जिसे आप NIELIT site से download कर सकते हो।

Read: O Level Project Guidelines, Format, Topics for Direct Student

Extra Note: – वो students के जिनके पास PGDCA, BCA, B.Tech (CS) की डिग्री है उन्हें O Level course करने की जरूरत नही है और ADCA या DCA certificate O LEVEL के equivalent नही हैं यानी आपको O Level course करना होगा।

रिजल्ट

परीक्षा के आयोजन के दो महीने बाद ओ लेवल कंप्यूटर कोर्स का परिणाम नीलिट की वेबसाइट पर दे दिया जाता है जहां से अभ्यर्थी उसे देख एवं डाउनलोड कर सकते हैं। किसी संस्थान के माध्यम से आवेदन करने वाले अभ्यर्थी अपना परिणाम संस्थान से भी मांग सकते हैं। परिणाम की गणना अभ्यर्थी द्वारा कंप्यूटर आधारित परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर होगी। परिणाम ग्रेड के प्रकार में दिए जाएंगे। 50 फीसदी से कम अंक लाने वाले अभ्यर्थी को अनुत्तीर्ण समझा जायेगा। परिणाम में प्रैक्टिकल के अंकों को नहीं जोड़ा जाता है, लेकिन ओ लेवल सर्टिफिकेट प्राप्त करने के लिए प्रैक्टिकल परीक्षाएं उत्तीर्ण करना एवं प्रोजेक्ट को खत्म करना आवश्यक है।

Tag - o level course in hindi, o level computer course syllabus, o level syllabus in hindi, doeacc a level course duration and fees, o level computer course details in hindi, O Level Course Syllabus Fees, Exam Ki Puri Jankari Hindi Me, o level computer course kya hai

No comments:

Post a Comment

"Candidate can leave your respective comment in comment box. Candidate can share any Query.
Our Panel will Assist you." - www.MySarkariResult.in