Dear MySarkariResult Users Always Type ".in" after MySarkariResult : - "MySarkariResult.in"

आप खुद फाइल कर सकते हैं इनकम टैक्स रिटर्न, यह तरीका अपनाए Income tax return in simple steps

आप खुद फाइल कर सकते हैं इनकम टैक्स रिटर्न, यह तरीका अपनाएं सबसे पहले आपको इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से जुड़े सभी जरूरी दस्तावेजों को जुटा लेना चाहिए.

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल (ITR) करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई 2019 है. आपको समय से रिटर्न फाइल करना चाहिए. देर से रिटर्न फाइल करने पर जुर्माना लगता है. बेवजह का तनाव भी बना रहता है. तय समयसीमा के बाद रिटर्न फाइल करने पर 10,000 रुपये की लेट फीस पड़ती है. सुपर सीनियर सिटीजन (जिनकी उम्र 80 साल से ज्यादा है) को छोड़ अब हर किसी को डिजिटली आईटीआर फाइल करना है. वहीं, सुपर सीनियर सिटीजन को पेपर फॉर्मेट में रिटर्न फाइल करने की छूट दी गई है. ई-फाइलिंग वेबसाइट पर रजिस्टर करने के बाद आप ऑनलाइन रिटर्न फाइल कर सकते हैं. यहां हम आपको रिटर्न फाइल करने के बारे में एक-एक कदम बता रहे हैं. 1. सभी दस्तावेज जुटा लें सबसे पहले आपको इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से जुड़े सभी जरूरी दस्तावेजों को जुटा लेना चाहिए. इसमें फॉर्म 16, सैलरी स्लिप और इंटरेस्ट सर्टिफिकेट इत्यादि शामिल हैं. ये दस्तावेज आपको कुल टैक्स योग्य इनकम निकालने में मदद करेंगे. इससे आपको वित्त वर्ष 2018-19 में आपकी आय से स्रोत पर कटौती (TDS) के बारे में भी पता लगेगा. फॉर्म 16 टीडीएस सर्टिफिकेट है जो कंपनी कर्मचारियों को देती है. इसी तरह फिक्स्ड डिपॉजिट के ब्याज के भुगतान पर टीडीएस के लिए बैंक फॉर्म 16ए जारी करते हैं. सुनिश्चित कर लें कि आपको मिले टीडीएस सर्टिफिकेट TRACES फॉर्मेट में हों. बैंक और कंपनी से मिले टीडीएस सर्टिफि‍केट पर आपको डिजिटल सिग्नेचर करने चाहिए. इसी तरह अगर आपने वित्त वर्ष 2018-19 में म्यूचुअल फंड की यूनिटें भुनाई हैं तो आप फंड हाउस से ट्रांजेक्शन और कैपिटल गेंस स्टेटमेंट देने के लिए कह सकते हैं. याद रखें कि इस साल से आपको शेयरों और इक्विटी म्यूचुअल फंड से हुए लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस पर टैक्स देना होगा. 1 लाख रुपये से ज्यादा के गेंस पर 10 फीसदी की दर से टैक्स लगेगा. इसलिए कैपिटल गेंस को जरूर देख लें. 2. फॉर्म 26एएस चेक और डाउनलोड करें फॉर्म 26एएस आपकी टैक्स पासबुक की तरह है. इसमें वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान आपकी इनकम से कटे टैक्स का ब्योरा होगा. आपको फॉर्म 26 एएस के साथ अपने टीडीएस सर्टिफिकेट का मिलान कर लेना चाहिए. आप TRACES की वेबसाइट से फॉर्म 26 एएस को डाउनलोड कर सकते हैं. इस फॉर्म को डाउनलोड करने के लिए ई-फाइलिंग वेबसाइट पर अपने अकाउंट में लॉग-इन करें. फिर 'माई अकाउंट' टैब पर क्लिक करने के बाद 'व्यू फॉर्म 26एएस' को चुनें. वेबसाइट आपको TRACES की वेबसाइट पर ले जाएगी. वहीं से आप फॉर्म 26एएस को डाउनलोड करें. 3. फॉर्म 26एएस की गलती को दूर करें अगर फॉर्म 26एएस और टीडीएस सर्टिफिकेट (फॉर्म 16, फॉर्म 16ए) की रकम का मिलान न हो तो आपको इसे ठीक करना चाहिए. इसके लिए उनसे संपर्क करें जिन्होंने टीडीएस काटा है. यह कंपनी, बैंक या कोई अन्य हो सकता है. उनसे विवरण को ठीक करने के लिए कहें. इसे भी पढ़ें : चार साल पुराने मामलों को नहीं खोलने का फैसला कर सकता है टैक्स डिपार्टमेंट

4. वित्त वर्ष के लिए कुल इनकम निकालें एक बार सभी दस्तावेजों को जुटा लेने के बाद आपको अपनी कुल टैक्स योग्य इनकम निकालने की जरूरत होती है. कुल इनकम को पांच अलग-अलग मदों में जोड़कर निकाला जाता है. इसमें डिडक्शन को हटा दिया जाता है. याद रखें कि इस साल आईटीआर में सैलरी का विवरण भरना आसान होगा. कारण है कि जो जानकारी भरी जानी है, उनका ब्योरा फॉर्म 16 में दिखाई देगा.

5. टैक्स देनदारी निकालें अपनी कुल इनकम निकालने के बाद आपको टैक्स देनदारी को कैलकुलेट करना होगा. इसके लिए अपने इनकम स्लैब के अनुसार, टैक्स दरों को लें. वित्त वर्ष 2018-19 के लिए इनकम टैक्स स्लैब और दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है.

6. अंतिम टैक्स निकालें अपनी टैक्स देनदारी निकालने के बाद उन सभी टैक्सों को घटा दें जो पहले ही आप टीडीएस, टीसीएस और एडवांस टैक्स के जरिये दे चुके हैं. सेक्शन 234ए, 234बी और 234सी के तहत कोई ब्याज हो तो जोड़ दें.

7. सभी टैक्स चुकाने के बाद इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करें टैक्स चुकाने के बाद आप आईटीआर फाइल करने की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं. अगर आप टैक्स डिपार्टमेंट से कोई रिफंड क्लेम करना चाहते हैं तो यह काम आप केवल तभी कर पाएंगे अगर आपने आईटीआर फाइल किया है. यही कारण है कि जरूरी न होने पर भी आपको आईटीआर फाइल करना चाहिए. आईटीआर फाइल करने में आपको सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आपने सही फॉर्म चुना हो. अगर आप गलत फॉर्म का इस्तेमाल कर आईटीआर फाइल कर रहे हैं तो वह अमान्य होगा. इसे आपको दोबारा फाइल करने की जरूरत होगी. आयकर विभाग हर साल आईटीआर फॉर्म अधिसूचित करता है. इन फॉर्मों को हर एसेसमेंट इयर के लिए जारी किया जाता है. किसी वित्त वर्ष के ठीक बाद जाने वाला साल एसेसमेंट इयर कहलाता है. इसी में आपको रिटर्न फाइल करने की जरूरत होती है. आईटीआर को एक्सेल या जावा यूटिलिटी में सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर फाइल किया जा सकता है. हालांकि, जिन करदाताओं को आईटीआर-1 और आईटीआर-4 फाइल करने की इजाजत है, उनके पास सॉफ्टवेयर यूटिलिटी डाउनलोड किए बगैर इसे फाइल करने का विकल्प है.

8. ITR का सत्यापन आईटीआर फाइलिंग की प्रक्रिया में अंतिम चरण सत्यापन का है. अपने आईटीआर को वेरिफाई करने के 6 तरीके हैं. इनमें से 5 इलेक्ट्रॉनिक तरीके हैं. जबकि एक फिजिकल वेरिफिकेशन का तरीका है. अगर आप अपने टैक्स-रिटर्न को इलेक्ट्रॉनिक तरीके से वेरिफाई करना चाहते हैं तो आपको टैक्स विभाग को कोई दस्तावेज भेजने की जरूरत नहीं है. हालांकि, फिजिकली अगर आप रिटर्न को वेरिफाई करना चाहते हैं तो आपको ITR-V/एकनॉलेजमेंट की साइन की हुई कॉपी को 'CPC, पोस्ट बॉक्स नंबर 1, इलेक्ट्रॉनिक सिटी पोस्ट आफिस, बेंगलुरु- 560100, कर्नाटक, भारत' भेजना होगा. याद रखें कि अपना आईटीआर फाइल करने के बाद आपके पास इसे सत्यापित करने के लिए 120 दिन होंगे. अपना आईटीआर सत्यापित न करने पर यह माना जाएगा कि आपने आईटीआर फाइल नहीं किया है. अगर आप समयसीमा से पहले अपने आईटीआर को वेरिफाई करना भूल जाते हैं तो आप अपने एसेसिंग ऑफिसर के पास अनुरोध दर्ज करा सकते हैं.

9. एकनॉलेजमेंट का ई-वेरिफिकेशन इलेक्ट्रॉनिक तरीके से अपना आईटीआर वेरिफाई करने पर आपको तुरंत टैक्स डिपार्टमेंट से अपने आईटीआर के वेरिफिकेशन के संबंध में कन्फर्मेशन मिलेगा. अगर आप ने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को पोस्ट के जरिये ITR-V भेजा है तो वह आपको इसकी पुष्टि करते हुए ईमेल भेजेगा.

10. वेरिफिकेशन के बाद आईटी डिपार्टमेंट रिटर्न को प्रोसेस करेगा रिटर्न के वेरिफाई हो जाने के बाद आयकर विभाग आपके टैक्स रिटर्न को प्रोसेस करना शुरू देगा. ऐसा यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि सभी भरे गए विवरण सही हैं. साथ ही आयकर कानून के अनुरूप हैं. रिटर्न की प्रोसेसिंग हो जाने पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट इसके बारे में आपको ईमेल भेजता है. अगर कोई खामी मिलती है तो वह आपसे इसमें सुधार करने के लिए कहेगा.

No comments:

Post a Comment

"Candidate can leave your respective comment in comment box. Candidate can share any Query.
Our Panel will Assist you." - www.MySarkariResult.in